Sir Chhoturam Blog

देशवाल जाट गोत्र का इतिहास 2

देशवाल जाट गोत्र का इतिहास

देशवाल जाट गोत्र का इतिहास यह देशवाल गोत्र बौद्ध कालीन है। महात्मा बुद्ध के भिक्षुओं की वार्ता में इसका उल्लेख मिलता है। उसके बाद यह महाभारत के समय से आबाद है जिला रोहतक में लाढौत गांव...

Mor Jat Gotra 2

यूरोप में कैथोलिक ईसाई धर्म और जाट

ईसाई धर्म और जाट जाटों ने ईसाई धर्म को यूरोप में ही समेट दिया था लेकिन इस्लाम धर्म में आपसी फूट और मारकाट की वजह से यूरोप में जाटों ने इस्लाम धर्म छोड़कर 16वीं...

कादियान 0

कादियान जाट गोत्र का इतिहास – Kadian Jat Gotra

कादियान जाट गोत्र का इतिहास मेजर ए० एच० बिंगले ने अपनी पुस्तक हैण्डबुक ऑफ जाट्स, गूजर्स, अहीर्स के पृष्ठ 28 पर लिखा है कि कादियान, चौहान राजपूत कादी की सन्तान हैं। खण्डन – राजपूत...

सर छोटूराम की नीली कोठी रोहतक 3

सर छोटूराम की नीली कोठी रोहतक

सर छोटूराम की नीली कोठी रोहतक यदि शिरोमणी सेठ चौधरी छाजूराम लाम्बा ना होते चौधरी छोटूराम भी ना होते | चौधरी छोटूराम उन्हे धर्मपिता कहकर पुकारते थे | चौधरी छाजूराम ने चौ छोटूराम को...