डबास जाट गोत्र का इतिहास

डबास जाट गोत्र का इतिहास

डबास जाट गोत्र का इतिहास

यह डबास गोत्र दहिया जाट गोत्र की शाखा है। दोनों गोत्रों का भाईचारा है इसीलिए दोनों के आपस में रिश्ते-नाते नहीं होते। इन दोनों गोत्रों के जाट विदेशों में तथा भारत में साथ-साथ रहे हैं। आज भी ये दोनों गोत्र साथ-साथ आबाद हैं।

डबास जाट छठी शताब्दी ईस्वी पूर्व कैस्पियन सागर के दक्षिण-पूर्व में बसे हुए थे। इनके साथ-साथ दहिया जाट भी उसी क्षेत्र में आबाद थे जिनके नाम पर यह सागर दधी सागर कहलाया था।

यूनान के प्रसिद्ध इतिहासकार हेरोडोटस ने अपनी भाषा में डबासों का नाम डरबिस (Derbice) लिखा है। सीथिया देश (मध्य एशिया) का एक प्रांत मस्सागेटाई जाटों का एक छोटा तथा शक्तिशाली राज्य था जिसकी रानी तोमरिस थी।

फौगाट जाट गोत्र का इतिहास

डबास जाट गोत्र का इतिहास

डबास जाट गोत्र का इतिहास – History of dabas jat gotra

529 ई० पू० में इस रानी की जाट सेना का युद्ध महान् शक्तिशाली सम्राट् साईरस से हुआ था। इस युद्ध में सम्राट् साईरस मारा गया और जाट महारानी तोमरिस विजयी रही।

इस युद्ध में दहिया/डबास जाट महारानी की ओर से साईरस के विरुद्ध लड़े थे। (देखो चतुर्थ अध्याय, जाट महारानी तोमरिस का सम्राट् साईरस से युद्ध प्रकरण)

जब दहिया जाटों का राजस्थान में राज्य समाप्त हो गया तब ये लोग डबास जाटों के साथ हरयाणा में जि० रोहतक व सोनीपत में आकर आबाद हो गये। डबास जाटों के गांव निम्न प्रकार से आबाद हैं –

दिल्ली प्रान्त में सोनीपत तहसील की सीमा के निकट कंझावला डबास खाप का प्रधान गांव है।

रसूलपुर, सुलतानपुर, पूंठ, घेवरा, रानीखेड़ा, मारगपुर, लाडपुर, मदनपुर, चांदपुर, माजरा डबास, बड़वाला आदि गांव डबास जाटों के हैं।

इधर से ही निकास प्राप्त करके डबास जाट जिला बिजनौर में आकर बसे। इस जिले में पीपली, डबासोंवाला, सिकैड़ा, पाड़ली, लाम्बाखेड़ा (कुछ घर), मण्डावली, मुजफरा, झिलमिला और नगीना आदि डबास जाटों के गांव हैं।

डबास गोत्र दहिया जाट गोत्र की शाखा है। दोनों गोत्रों का भाईचारा है इसीलिए दोनों के आपस में रिश्ते-नाते नहीं होते। इन दोनों गोत्रों के जाट

ग्रेवाल जाट गोत्र का इतिहास – Sikh Jatt Sarname

डबास जाट गोत्र का इतिहास – History of dabas jat gotra

डबास गोत्र वर्तमान में दिल्ली के उत्तर-पश्चिमी परिदृश्य पर हावी है, वे सबसे बड़े जाट वंश हैं और प्रमुख गांव कंजावाला है। उनकी पारंपरिक जड़ें उन्हें रोमानिया के डासियन शासकों से जोड़ती हैं।

कुतुबद्दीन ऐबक के समकालीन राजा मरक सिंह डबास के शासन में यह कबीला अपनी चरम शक्ति पर पहुंच गया और डेटाबेस जाटों ने दिल्ली के वर्तमान क्षेत्र पर अपना वर्चस्व स्थापित कर लिया।

दलाल जाट गोत्र का इतिहास

इस गोत्र को उत्तर वर्धा में डेविस (डवास) नामक स्थान के बाद शुरू किया जाता है। दिल्ली में उनके 16 गाँव हैं, दहिया जाटों के पड़ोस में और बाद के साथ उनके अंतरंग संबंध हैं।

वे दहिया जाटों के वंशज नहीं हैं बल्कि राजस्थान से उनके साथ आए थे। दिलीप सिंह अहलावत ने इसका उल्लेख मध्य एशिया में सत्तारूढ़ जाट वंशों में से एक के रूप में किया है।

6 राम स्वरूप जून [7] डबास के बारे में लिखते हैं: उनके पास दिल्ली में 16 गाँव हैं, दहिया जाटों के पड़ोस में, और बाद के साथ उनके अंतरंग संबंध हैं। वे दहिया जाटों के वंशज नहीं हैं बल्कि राजस्थान से उनके साथ आए थे।

गुलिया गौत्र का इतिहास

डबास जाट गोत्र का इतिहास – History of dabas jat gotra

बी एस दहिया [8] लिखते हैं: शायद वे हीरोडोटस की बर्फ़ और अन्य लेखकों के बर्बिस के समान हैं। वे छठी शताब्दी ईसा पूर्व में कैस्पियन सागर के दक्षिण-पूर्व में बसे थे। शायद वे भारतीय साहित्य के दरवेश हैं।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, डबास वैदिक काल में सिंध के महान राजा महर्षि दधीचि के वंशज हैं।

दहिया, दाव्यस (डबास), कुंडू और हुड्डा नाम के उनके चार बेटे थे। दधीचि एक सम्राट बने महर्षि की मृत्यु 100 वर्ष की आयु में गैर-आर्य जनजातियों से लड़ते हुए हुई।

युद्ध में, उनके चार पुत्रों ने अत्यंत बहादुरी के साथ युद्ध किया और गैर-आर्यों का विनाश किया।

मूल। डबास गोत्र वर्तमान में दिल्ली के उत्तर-पश्चिमी परिदृश्य पर हावी है, वे सबसे बड़े जाट वंश हैं और प्रमुख गांव कंजावाला है। …

वे दहिया जाटों के वंशज नहीं हैं बल्कि राजस्थान से उनके साथ आए थे। दिलीप सिंह अहलावत ने इसका उल्लेख मध्य एशिया में सत्तारूढ़ जाट वंशों में से एक के रूप में किया है।

डबास जाट गोत्र का इतिहास

सारण – रणधावा जाट गोत्र का इतिहास

2 thoughts on “डबास जाट गोत्र का इतिहास”

  1. Pingback: छीलर जाट गोत्र का इतिहास - छिकारा - Sir Chhoturam

  2. Pingback: गढ़वाल जाट गोत्र का इतिहास - History of Garhwal Jat gotra - Sir Chhoturam

Leave a Reply